Intzaar

आँखों को इंतज़ार की भट्टी पे रख दिया
मैंने दिये को आँधी की मर्ज़ी पे रख दिया

Posted by | View Post | View Group

Leave a Reply