#Azhan

#Azhan

Advertisements

#Azhan

Posted by | View Post | View Group
Advertisements

सुनो.. …

सुनो..
तुम्हें पूरा जानकर खो देने से बेहतर!
अंजान बने रहना वाजिब है….😃
.
SHoaiB

सुनो..
तुम्हें पूरा जानकर खो देने से बेहतर!
अंजान बने रहना वाजिब है….😃
.
SHoaiB

Posted by | View Post | View Group

फिर यूँ हुआ कि सोने …

फिर यूँ हुआ कि सोने का भाव गिर गया…
इक शाम जो उतारा उसने कंगन कलाई से…
#Azhan

फिर यूँ हुआ कि सोने का भाव गिर गया…
इक शाम जो उतारा उसने कंगन कलाई से…
#Azhan

Posted by | View Post | View Group

कितना चालाक है वो …

कितना चालाक है वो यार-ए-सितमगर देखो
उस ने तोहफ़े में घड़ी दी है मगर वक़्त नहीं
#Azhan

कितना चालाक है वो यार-ए-सितमगर देखो
उस ने तोहफ़े में घड़ी दी है मगर वक़्त नहीं
#Azhan

Posted by | View Post | View Group

कुछ कहानियां हमसे …

कुछ कहानियां हमसे गुजरी
कुछ कहानियों से हम गुजरे
#keval_______patel

कुछ कहानियां हमसे गुजरी
कुछ कहानियों से हम गुजरे
#keval_______patel

Posted by | View Post | View Group

दरवाजे पर दस्तक दे …

दरवाजे पर दस्तक दे के चली गई…
शायद मुस्कान ग़लत पते पर आ गई थी.!!
#keval_______patel

दरवाजे पर दस्तक दे के चली गई…
शायद मुस्कान ग़लत पते पर आ गई थी.!!
#keval_______patel

Posted by | View Post | View Group

उदासी जब तुम 👱🏻 …

उदासी जब तुम 👱🏻 ‍♀️पर बीतेगी 🤕 तो तुम भी 😰जान जाओगे,
कोई 😒 नजर-अंदाज 😏 करता है तो 😫 कितना दर्द 🤕 होता है..
#keval_______patel

उदासी जब तुम 👱🏻 ‍♀️पर बीतेगी 🤕 तो तुम भी 😰जान जाओगे,
कोई 😒 नजर-अंदाज 😏 करता है तो 😫 कितना दर्द 🤕 होता है..
#keval_______patel

Posted by | View Post | View Group

पकड़ी जब नफ़्ज़ मेरी., …

पकड़ी जब नफ़्ज़ मेरी.,
हकीम लुकमान यू बोला…!
वो ज़िंदा है तुझ में..’
तू मर चूका है जिस में..!🥀✍🏻
#Azhan

पकड़ी जब नफ़्ज़ मेरी.,
हकीम लुकमान यू बोला…!
वो ज़िंदा है तुझ में..’
तू मर चूका है जिस में..!🥀✍🏻
#Azhan

Posted by | View Post | View Group

हर एक लफ़्ज़ में …

हर एक लफ़्ज़ में सीने का नूर ढाल के रख
कभी कभार तो काग़ज़ पे दिल निकाल के रख !
जो दोस्तों की मोहब्बत से जी नहीं भरता,
तो आस्तीन में दो-चार साँप पाल के रख !
तुझे तो कितनी बहारें सलाम भेजेंगी,
अभी ये फूल सा चेहरा ज़रा सँभाल के रख !
(अंजुम बाराबंकवी)
#Azhan

हर एक लफ़्ज़ में सीने का नूर ढाल के रख
कभी कभार तो काग़ज़ पे दिल निकाल के रख !
जो दोस्तों की मोहब्बत से जी नहीं भरता,
तो आस्तीन में दो-चार साँप पाल के रख !
तुझे तो कितनी बहारें सलाम भेजेंगी,
अभी ये फूल सा चेहरा ज़रा सँभाल के रख !
(अंजुम बाराबंकवी)
#Azhan

Posted by | View Post | View Group

फकीर ले गया कांसे …

फकीर ले गया कांसे मे गालियाँ भरकर,,!!
अमीर बाप का बेटा था और क्या देता,,!!
.
SHoaiB

फकीर ले गया कांसे मे गालियाँ भरकर,,!!
अमीर बाप का बेटा था और क्या देता,,!!
.
SHoaiB

Posted by | View Post | View Group