मैंने सफर तय नहीं …

मैंने सफर तय नहीं किया..
बस कदम बढ़ाये और रास्ता बनता गया..!!
.
SHoaiB

Advertisements

मैंने सफर तय नहीं किया..
बस कदम बढ़ाये और रास्ता बनता गया..!!
.
SHoaiB

Posted by | View Post | View Group
Advertisements

ये तो वो दु

ये तो वो दु:ख है जो बताए हमने,
अब वो सोचो जो छुपाये होंगे…!!
.
SHoaiB

ये तो वो दु:ख है जो बताए हमने,
अब वो सोचो जो छुपाये होंगे…!!
.
SHoaiB

Posted by | View Post | View Group

मेरी जिन्दगी में …

मेरी जिन्दगी में आज तक सिर्फ एक ही #बंदी आई है,
.
.
.
.
.
.
.
.
.
और वो थी नोट #बंदी..
#सचिन

मेरी जिन्दगी में आज तक सिर्फ एक ही #बंदी आई है,
.
.
.
.
.
.
.
.
.
और वो थी नोट #बंदी..
#सचिन

Posted by | View Post | View Group

उसने कहा हम दिन और …

उसने कहा हम दिन और रात जैसे हैँ। कभी एक नही हो सकतेँ..

मैने कहा आओ शाम को मिलते हैँ।

#ऋषि

उसने कहा हम दिन और रात जैसे हैँ। कभी एक नही हो सकतेँ..

मैने कहा आओ शाम को मिलते हैँ।

#ऋषि

Posted by | View Post | View Group

तुम्हारी फिक्र …

तुम्हारी फिक्र करनेके लिए हमारा रिश्ता होना जरूरी तो नहीं…!!!
एहसास की ही तो बात है तुम्हारी इजाजत भी जरूरी नहीं……!!!
.
SHoaiB

तुम्हारी फिक्र करनेके लिए हमारा रिश्ता होना जरूरी तो नहीं…!!!
एहसास की ही तो बात है तुम्हारी इजाजत भी जरूरी नहीं……!!!
.
SHoaiB

Posted by | View Post | View Group

आसमाँ इतनी बुलंदी …

आसमाँ इतनी बुलंदी पे जो इतराता है
भूल जाता है ज़मीं से ही नज़र आता है
.
SHoaiB

आसमाँ इतनी बुलंदी पे जो इतराता है
भूल जाता है ज़मीं से ही नज़र आता है
.
SHoaiB

Posted by | View Post | View Group

हमारी मोहब्बत को …

हमारी मोहब्बत को याद रखो,,
कर्ज आप पर हमारे दो फूल है ….
.
SHoaiB

हमारी मोहब्बत को याद रखो,,
कर्ज आप पर हमारे दो फूल है ….
.
SHoaiB

Posted by | View Post | View Group

रोकने की कोशिश तो …

रोकने की कोशिश तो बहुत की पलकों ने, मगर;

इश्क में पागल थे आँसू, ख़ुदकुशी करते चले गए…

#ऋषि

रोकने की कोशिश तो बहुत की पलकों ने, मगर;

इश्क में पागल थे आँसू, ख़ुदकुशी करते चले गए…

#ऋषि

Posted by | View Post | View Group

दिल है उदास बहुत …

दिल है उदास बहुत कोई पैगाम लिख दो,
तुम अपना नाम न सही गुमनाम ही लिख दो..
#सचिन

दिल है उदास बहुत कोई पैगाम लिख दो,
तुम अपना नाम न सही गुमनाम ही लिख दो..
#सचिन

Posted by | View Post | View Group

*इश्क़ और मेरी बनती …

*इश्क़ और मेरी बनती नही साहब,

वो ग़ुलामी चाहता है और हम बचपन से आज़ाद हैं..!!

#ऋषि

*इश्क़ और मेरी बनती नही साहब,

वो ग़ुलामी चाहता है और हम बचपन से आज़ाद हैं..!!

#ऋषि

Posted by | View Post | View Group